बालकृष्‍ण भट्ट पर अभिषेक रोशन की किताब प्रकाशित

किताब का कवर

Balkrishan Bhatt

किताब का ब्‍लर्ब

बालकृष्‍ण भट्ट और आधुनिक हिंदी आलोचना का आरंभ। अभिषेक रौशन ने इस पुस्तक में परिश्रम से अनुपलब्ध सामग्री का संचयन किया है और उसका विवेकपूर्ण मूल्यांकन भी किया है। उन्होंने हिंदी आलोचना के इतिहास में व्याप्त अनेक भ्रांतियों का शालीनता से निराकरण किया है। इस पुस्तक में उपलब्ध, प्रकाशित और अप्रकाशित सामग्री का संचयन, मनन और प्रतिपादन आवश्यक वैदुष्य के साथ किया गया है। भारतेंदुयुग के प्रसिद्ध लेखक और आलोचक बालकृष्ण भट्ट पर ऐसा काम पहले नहीं हुआ है इसलिए यह नया तो है ही महत्त्वपूर्ण भी है। अभिषेक ने भारतेंदु युग के विचारकों के संदर्भ में भी भट्ट जी के साहस, उनकी अग्रगामिता और विश्लेषण की पद्धति को ध्यान में रखकर उनकी तार्किकता और वैचारिक दृढ़ता का विवेचन किया है। इस पुस्तक में यह बात भी स्पष्ट होती है कि साहित्य की विभिन्न विधाओं के बारे में भारतेंदुयुग में बालकृष्ण भट्ट और दूसरे लेखक क्या सोचते थे। यह किताब आधुनिक हिंदी आलोचना के आधारों और विकास की प्रक्रियाओं को समझने में सहायक होगी।

सत्यप्रकाश मिश्र
01 अक्टूबर, 2002

बालकृष्‍ण भट्ट और आधुनिक हिंदी आलोचना का आरंभ पुस्‍तक की क़ीमत 390 रुपये है। इसे आप अंतिका प्रकाशन, सी 56, यूजीएफ 4, शालीमार गार्डेन, एक्‍स. 2, साहिबाबाद, ग़ाज़‍ियाबाद 201005 (यूपी) के पते पर लिख कर मंगवा सकते हैं। अंतिका प्रकाशन का फोन नंबर है 0120-6475212… इस पुस्‍तक को मंगवाने के लिए antika56@gmail पर मेल भी कर सकते हैं। या नीचे कमेंट बॉक्‍स में इन किताबों के ऑर्डर दिये जा सकते हैं।

कवि परिचय

युवा अध्येता अभिषेक रौशन का जन्म 25 फरवरी, 1976 को कनौसी, जि़ला बेगूसराय (बिहार) में हुआ। इन्होंने प्रारम्भिक शिक्षा बिहार से तथा हिंदी साहित्य में एमए, एमफिल एवं पीएचडी जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय नयी दिल्ली से पूरी की। इन्हें विश्वविद्यालय अनुदान आयोग द्वारा जेआरएफ, एसआरएफ मिला है। कई पत्र-पत्रिकाओं में इनके आलेख प्रकाशित। कुछ समीक्षाएं एवं टिप्पणियां भी प्रकाशित हैं।
संपर्क : द्वारा – सूबेपाल सिंह, बी 74, छत्तरपुर इन्क्लेव, फेज-2, नयी दिल्ली 110074

(sponsored article)

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *