सिस्टम के थ्री इडियॉटिक बागी

♦ रवीश कुमार

नयी दिल्ली फ़िल्म सोसायटी के आशीष सिंह का शुक्रिया अदा करते हुए, और रवीश कुमार का भी, जिनसे मैं क़तई सहमत नहीं हूं, पर अपनी असहमति को मैं थोड़े लंबे लेख की शक्ल में पेश करूंगा। फ़िलहाल इतना कह दूं कि राजू हिरानी और आमिर ख़ान अपनी जो बात पिछली कई फ़िल्मों में अलग-अलग कह रहे थे, उसको साथ आकर और मुकम्म्ल ढंग से यहां कह पाये हैं। ये फ़िल्म मेरी सूची में बेहतरीन ठहरती है, और फ़िल्म इतिहास में इसका नाम आएगा। जल्द मिलते हैं, पर पहले धीर-गंभीर रवीश की गंभीरता पर थोड़ा हंस लेने को जी चाहता है!

रविकांत

वैसे अब मुझे भी हंसी आ रही है। थोड़ा ज्यादा गंभीर हो गया था। मैं फिल्म को बाद के संदर्भों में रख कर देखने की कोशिश कर रहा था। देखते वक्त पूरा मज़ा आया। शायद ये लिखने में नहीं आया। फिल्म को फिल्म की तरह हमेशा नहीं देख सकते। वैसे मैं अब सोच रहा हूं कि अपनी रिजेक्टेड कालजयी रचनाओं की श्रेणी में डाल दूं! इन्हें अब मिटा नहीं सकता। इंटरनेट ने सभी रचनाओं को कालजयी किया है। मिटाऊंगा तो भी हिस्ट्री से निकल आएंगी। इसलिए अब कोई चारा नहीं बचा है। असहमति सह गाली सहने के लिए तैयार हूं। मुझे ये फिल्म बेहतरीन लगी लेकिन सामान्य मनोरंजक। लगान और तारे ज़मीं पर की तरह महान नहीं। वैक्यूम क्लिनर से बच्चा पैदा करने की तरकीब बताने के लिए तीन तीन फिल्मों का इंतज़ार। आपके लिखे का इंतज़ार रहेगा। हरिद्वार में हूं। एक देव से मुलाकात हुई। नदी के किनारे घोड़े पर बैठे हुए। मूर्ति गजब की है। आशीर्वाद देने की मुद्रा में। टाई और सूट में। मैं अब इस नये अवतार की खोज में जुटा हुआ हूं। इस टाइप के आधुनिक भगवान सनातन परंपरा में कब और किन प्रयत्नों से अवतरित हुए, इसकी तलाश कर मैं भी थ्री इडियट्स की भांति लौटूंगा। मेरे फेसबुक पर इस ग्रेड लघु गॉड की तस्वीर देख सकते हैं। जल्द ही ब्लॉग पर भी इनको डाल कर इंटरनेट जगत में लोकप्रिय करूंगा। मुझे बहुत दिनों से हैंडसम गॉड चाहिए था, वो मिल गया है।
आपका : कालजयी कुमार

रवीश कुमार

साढ़े चार स्टार्स की फ़िल्म देख रहा था। तारे छिटकते थे और फिर कहीं कहीं जुड़ जाते थे। साल की असाधारण फिल्म की साधारण कहानी चल रही थी। चार दिनों में सौ करोड़ की कमाई का रिकार्ड बज रहा था और दिमाग़ के भीतर कोई छवि नहीं बन पा रही थी। थ्री इडियट्स की कहानी शिक्षा प्रणाली को लेकर हो रही बहसों के तनाव में कॉमिक राहत दिलाने की सामान्य कोशिश है। कामयाबी काबिल के पीछे भागती है। संदेश किसी बाबा रणछोड़दास का बार बार गूंज रहा था।

पढ़ाई का सिस्टम ख़राब है लेकिन विकल्प भी बहुत बेकार। इसी ख़राब सिस्टम ने कई प्रतिभाओं को विकल्प चुनने के मौके दिये हैं। इसी खराब सिस्टम ने लोगों को सड़ा भी दिये हैं। लेकिन यह टाइम दूसरा है। हम विकल्पों के लिए तड़प रहे हैं। लेकिन क्या हम वाकई विकल्प का कोई मॉडल बना पा रहे हैं? सवाल हम सबसे है।

मद्रास प्रेसिडेंसी में सबसे पहले इम्तहानों का दौर शुरू हुआ था। अंग्रेजों ने जब विश्वविद्यालय बनाकर इम्तहान लिये तो सवर्ण जाति के सभी विद्यार्थी फेल हो गये। उसी के बाद पहली बार थर्ड डिविज़न का आगमन हुआ। हिंदुस्तान में सर्टिफिकेट आधारित प्रतिभा की यात्रा यहीं से शुरू होती है। डेढ़ सौ साल से ज़्यादा के इतिहास में परीक्षा को लेकर हमने एक समाज के रूप में तनाव की कई मंज़िलें देखी हैं। ज़िला टॉपर और पांच बार मैट्रिक फेल अनुभव प्राप्त प्रतिभावान और नाकाबिल हर घर परिवार में रहे हैं। दिल वाले दुल्हनियां ले जाएंगे में अनुपम खेर अपने खानदान के सभी मैट्रिक पास या फेल पूर्वजों की तस्वीरें लगा कर रखते हैं। शाहरुख खान को दिल की सुनने के लिए भेज देते हैं। पंद्रह साल पहले आयी यह कहानी सुपरहिट हो जाती है। अनुपम खेर शाहरुख खान से कहते हैं कि जा तू मेरी भी ज़िंदगी जी कर आ।

शिक्षा व्यवस्था से भागने के रास्ते को लेकर कई फिल्में बनी हैं। भागने के कई रास्ते भी हैं। थ्री इडियट्स फिल्म पूंजीवादी सिस्टम को रोमांटिक बनाने का प्रयास करती है। काबिलियत पर ज़ोर से ही कामयाबी का रास्ता निकलता है। काबिल होना पूंजीवादी सिस्टम की मांग है। रणछोड़ दास का विकल्प भी किसी अमेरिकी कंपनी की कामयाबी के लिए डॉलर पैदा करने की पूंजी बन जाता है। कामयाबी के बिना ज़िंदा रहने का रास्ता नहीं बताती है यह फिल्म। शायद ये किसी फिल्म की ज़िम्मेदारी नहीं होती। उसका काम होता है जीवन से कथाओं को उठाकर मनोरंजन के सहारे पेश कर देना। ताकि हम तनाव के लम्हों में हंसने की अदा सीख सकें।

बीसवीं सदी के शुरुआती दशकों में ही प्रेमचंद की कहानी आ गयी थी। बड़े भाई साहब। इम्तहान सिस्टम पर बेहतरीन व्यंग्य। बड़े भाई साहब अपने छोटे भाई साहब को नये सिस्टम में ढालने के बड़े जतन करते हैं। छोटा भाई कहता है कि इस जतन में वो एक साल के काम को तीन-तीन साल में करते हैं। एक ही दर्जे में फेल होते रहते हैं। और खेलने-कूदने वाला छोटा भाई हंसते खेलते पास होने लगता है।

कहानी में बड़े भाई का संवाद है। गौर कीजिएगा। “सफल खिलाड़ी वह है, जिसका कोई निशाना खाली न जाए। मेरे फेल होने पर न जाओ। मेरे दरजे में आओगे, तो दांतों पसीना आ जाएगा। जब अलजेबरा और ज्योमेट्री के लोहे के चने चबाने पड़ेंगे। इंग्लिस्तान का इतिहास पढ़ना पड़ेगा। बादशाहों के नाम याद रखना आसान नहीं। आठ-आठ हेनरी हुए हैं। कौन सा कांड किस हेनरी के समय में हुआ, क्या यह याद कर लेना आसान समझते हो। हेनरी सातवें की जगह हेनरी आठवां लिखा और सब नंबर गायब। सफाचट। सिफर भी न मिलेगा, सिफर भी। दर्जनों तो जेम्स हुए हैं, दर्जनों विलियम, कौड़ियों चार्ल्स। दिमाग चक्कर खाने लगता है।”

भारतीय शिक्षा प्रणाली को लेकर ऐसे किस्से इसके आगमन से ही भरे पड़े हुए हैं। प्रेमचंद की यह कहानी बेहतरीन व्‍यंग्‍य है। उस वक्त का व्यंग्य है, जब इम्तहानों का भय और रूटीन आम जीवन के करीब पहुंच ही रहा था। थ्री इडियट्स की कहानी तब की है जब इम्तहानों को लेकर देश में बहस चल रही है। एक सहमति बन चुकी है कि नंबर या टॉप करने का सिस्टम ठीक नहीं है। दिल्ली के सरदार पटेल में कोई टॉपर घोषित नहीं होता। किसी को नंबर नहीं दिया जाता। ऐसे बहुत से स्कूल हैं, जहां मौजूदा खामियों को दूर किया गया है या दूर करने का प्रयास हो रहा है। इसी साल सीबीएसई के बोर्ड में नंबर नहीं दिये जाएंगे। उत्तर प्रदेश और मध्यप्रदेश में बोर्ड के इम्तहानों में करीब बीस लाख से ज़्यादा बच्चे फेल हो गये थे।

इन सभी हकीकतों के बीच आमिर की यह फिल्म एजुकेशन के सिस्टम को कॉमिक में बदल देती है। जो मन करे, वही पढ़ो। यही आदर्श स्थिति है, लेकिन ऐसा सिस्टम नहीं होता। न पूंजीवाद के दफ्तर में और न कालेज में। अभी तक कोई ठोस विकल्प सामने नहीं आया है। प्रतिभाएं कालेज में नहीं पनपती हैं। यह एक मान्य परंपरा है। थ्री इडियट्स मौजूदा सिस्टम से निकलने और घूम फिर कर वहीं पहुंच जाने की एक सामान्य फिल्म है। जिस तरह से तारे ज़मीं पर मज़बूती से हमारे मानस पर चोट करती है और एक मक़सद में बदल जाती है, उस तरह से थ्री इडियट्स नहीं कर पाती है। चंद दोस्तों की कहानियों के जरिये गढ़े गये भावुकता के क्षण सामूहिक बनते तो हैं लेकिन दर्शकों को बांधने के लिए, न कि सोचने पर मजबूर करने के लिए। फिल्मों के तमाम भावुक क्षण खुद ही अपने बंधनों से आजाद हो जाते हैं। जो सहपाठी आत्महत्या करता है, उसका प्लॉट किसी मकसद में नहीं बदल पाता। दफनाने के साथ उसकी कहानी खतम हो जाती है। कहानी कालेज में तीन मसखरों की हो जाती है जो इस सिस्टम को उल्लू बनाने का रास्ता निकालने में माहिर हैं। ऐसे माहिर और प्रतिभाशाली बदमाश हर कालेज में मिल जाते हैं।

चेतन भगत की दूसरी किताब पढ़ी है। टू स्टेट्स। थ्री इडियट्स की कहानी अगर पहली किताब फाइव प्वाइंट्स समवन से प्रभावित है तो यह साबित हो जाता है कि फिल्म आईआईटी में गये एक कामयाब लड़के की कहानी है जो आईआईटी के सिस्टम को एक नॉन सीरियस तरीके से देखता है। चेतन भगत का इस विवाद में उलझना बताता है कि उसकी कहानियों का यह किरदार लेखक एक चालू किस्म का बाज़ारू आदमी है। क्रेडिट और पैसा। दोनों बराबर और ठीक जगह पर चाहिए। विधू विनोद चोपड़ा का जवाब बताता है कि कामयाबी के लिए क्या-क्या किये जा सकते हैं। परदे पर चेतन को क्रेडिट मिली है लेकिन कितनी मिली है उसे ईंची टेप से नापा जाना बताता है कि फिल्म अपने मक़सद में कमज़ोर है।

इसीलिए इस फिल्म की कहानी लगान और तारे ज़मीं पर जैसी नहीं है। हां दोस्ती के रिश्तों को फिर से याद दिलाने की कोशिश ज़रूर है। आमिर खान किसी कहानी में ऐसे फिट हो जाते हैं जैसे वो कहानी उन्हीं के लिए बनी हो। कहानी इसलिए अपनी लगती है क्योंकि कंपटीशन अब एक व्यापक सामाजिक दायरे में है। शिक्षा और उससे पैदा होने वाली कामयाबी का विस्तार हुआ है। हम भी कामयाब हैं और आमिर भी कामयाब हैं। पहले ज़िले में चार लोग कामयाब होते थे, अब चार हज़ार होते हैं। मेरे ही गांव में ज़्यादातर लोगों के पास अब पक्के के मकान हैं। पहले तीन चार लोगों के होते थे। कामयाबी के सार्वजनिक अनुभव के इस युग में यह फिल्म कई लोगों के दिलों से जुड़ जाती है।

भारत महान के प्रखर चिंतकों के लेखों में एक कामयाब मुल्क बनने की ख्वाहिश दिखती है। बीसवीं और इक्कीसवीं सदी का भारत या अगले दशक का भारत। भारत एक मुल्क के रूप में चीन और अमेरिका से कंपीट कर रहा है। जाहिर है, नागरिकों के पास विकल्प कम होंगे। सब रेस में दौड़ रहे हैं। आत्महत्या करने वालों की कोई कमी नहीं है। दिमाग फट रहे हैं। सिस्टम क्रूर हो रहा है। काश थ्री इडियट्स के ये किरदार मिलकर इसकी क्रूरता पर ठोस प्रहार करते। लेकिन ये क्या। ये तीनों कहानी के आखिर में लौटते हैं, कामयाब ही होकर। अगर कामयाब न होते तो कहानी के मामूली संदेश की लाज भी नहीं रख पाते। बड़ी सी कार में दिल्ली से शिमला और शिमला से मनाली होते लद्दाख। साधारण और सिर्फ सर्जनात्मक किस्म के लोगों की कहानी नहीं हो सकती। ये कामयाब लोगों की कहानी है जो काबिल भी हैं। कामयाब चतुर रामालिंगम भी है। दोनों अंत में एक डील साइन करने के लिए मिलते हैं। एक दूसरे को सलामी ठोंकते हैं। थोड़ा मज़ा भी लेते हैं। वो सिस्टम से बगावत नहीं करते हैं, एडजस्ट होने के लिए टाइम मांग लेते हैं। सिस्टम का विकल्प नहीं देती है यह फिल्म। न ही तारे ज़मीं पर की तरह सिस्टम में अपने किरदार के लिए जगह देने की मांग करती है। मनोरजंन करने में कामयाब हो जाती है। शायद किसी फिल्म के लिए यही सबसे बड़ा पैमाना है। साढ़े चार स्टार्स की फिल्म।

नोट- ज़ुबी डूबी गाना रेट्रो इफेक्ट देता है। ओम शांति ओम से लेकर रब ने बना दी जोड़ी तक में ऐसे प्रयोग हो चुके हैं। इससे पहले भी कई फिल्मों में रेट्रो इफेक्ट के ज़रिये पुरानी फिल्मों के क्लिशे को हास्य में बदला जा चुका है। गाना बेहद अच्छा है।

ravish kumar(रवीश कुमार। टीवी का एक सजग चेहरा। एनडीटीवी इंडिया के फीचर एडिटर। नामी ब्‍लॉगर। कस्‍बा नाम से मशहूर ब्‍लॉग। दैनिक हिंदुस्‍तान में ब्‍लॉगिंग पर एक साप्‍ताहिक कॉलम। इतिहास के छात्र रहे। कविताएं और कहानियां भी लिखते हैं। उनसे ravish@ndtv.com पर संपर्क किया जा सकता है।)

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *