सत्‍य को न छिपाएं, उस पर पहरा न दें

♦ राजकिशोर

वरिष्‍ठ पत्रकार राजकिशोर ने उन इलाकों में रिपोर्टिंग को लेकर एक प्रस्‍ताव रखा है, जहां नक्‍सली गतिविधियां हैं। यह कि पत्रकारों को लालपट्टियों में बेहिचक जानें दे ताकि बिना किसी आग्रह के सच और तथ्‍य सामने आ सकें। जहां तक मेरी जानकारी है, गलत भी हो सकती है – किसी भी पत्रकार को माओवादियों ने अपने इलाकों में रिपोर्टिंग करने से रोका नहीं है, निशाना नहीं बनाया है। बल्कि अभी हाल में पत्रकार हेमचंद्र पांडे की पुलिस वालों ने हत्‍या कर दी, क्‍योंकि वे माओवादी नेता आजाद के साथ पकड़े गये थे। राजकिशोर जी यह भी बताएं कि कुछ महीनों पहले अरुंधती जब छत्तीसगढ़ के जंगलों में जाकर रिपोर्ट संकलित कर रही थीं, क्‍या वे अरुंधती की इस गतिविधि को पत्रकारीय कर्म से बाहर रखेंगे? खैर, हमें लगता है कि इस देश में पत्रकारों के लिए कहीं कोई बंदिश नहीं है। वे कहीं भी जाकर रिपोर्ट लिख सकते हैं और लालपट्टी भी अपवाद नहीं होगी : मॉडरेटर

मेरा एक निवेदन है। कथित लाल पट्टी में वस्तुतः क्या हो रहा है, यह जानने का कोई विश्वसनीय माध्यम हमारे पास नहीं है। समाचार के रूप में पुलिस द्वारा बांटी गयी खबरें हैं या माओवादियों के समर्थकों द्वारा पेश की गयी रिपोर्टें। हमें इन दोनों की प्रामाणिकता पर शक करने का अधिकार है।

जब तक सही खबर न मिले, हम न तो पुलिस की नृशंसता का ठीक-ठीक अनुमान लगा सकते हैं न माओवादियों की गतिविधियों के बारे में जान सकते हैं। सचाई के हक में मेरा निवेदन है कि जैसे दो देशों के बीच युद्ध के दौरान रेड क्रॉस के कार्यकर्ताओं और संवाददाताओं को जान-बूझ कर चोट नहीं पहुंचायी जाती, उसी तरह इस लाल पट्टी में भी संवाददाता जा सकें और प्राप्त सूचनाओं से देश की जनता को अवगत करा सकें, इसकी कोई अच्छी व्यवस्था होनी चाहिए।

मेरा विश्वास है कि सत्य के सामने आने से किसी भी पक्ष का वास्तविक नुकसान नहीं हो सकता। हां, सत्य को छिपाने के लिए उस पर पहरा देने से सभी का नुकसान होने की निश्चित संभावना है।

rajkishore(राजकिशोर। वरिष्‍ठ पत्रकार। महात्‍मा गांधी अंतरराष्‍ट्रीय हिंदी विश्‍वविद्यालय के राइटर इन रेजीडेंस। नवभारत टाइम्‍स और रविवार में लंबे समय तक रहे। इन दिनों विभिन्‍न अखबारों में कॉलम लिखते हैं। उनकी कई किताबें आ चुकी हैं। उनसे raajkishore@gmail.com पर संपर्क किया जा सकता है।)

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *