वे डॉ माशेलकर थे, जिन्‍होंने युवाओं को उत्‍साह की नदी में उतारा!

24 दिसंबर 2011 … पूरे दिन आईआईटी, पवई (मुंबई) में इंडक्‍शन प्रोग्राम चला। यात्रा के प्रबंधन से जुड़े लोगों ने युवा यात्रियों को यात्रा से जुड़े तमाम तिलस्‍मों और रहस्‍यों को खोला। सबने अपनी अपनी तरह से बताया कि सन 97 में आजाद भारत रेल यात्रा से शुरू हुए जागृति के सपने को इक्‍कीसवीं सदी में कैसे फिर से जगाया गया। पद्मभूषण डॉ आरए माशेलकर ने अपने ओजस्‍वी भाषण से युवा यात्रियों का उत्‍साह बढ़ाया।

Dr R A Mashelkar – Before the Journey – Day 1 – Jagriti Yatra 2011

Padma Bhushan winner Dr Mashelkar shares some encouraging thoughts with the yatris (journeyers) waiting to embark on the Jagriti train.

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *