प्रदीप सौरभ को 2012 का अंतरराष्‍ट्रीय इंदु शर्मा सम्‍मान

था यूके के साथ अच्‍छी बात ये है कि वह पिछले दो सालों से जिन लोगों को इंदु शर्मा कथा सम्‍मान दे रहा है, वे ऐसे लोग हैं जो साहित्‍य के किसी गैंग से नहीं आते। पत्रकारिता के रास्‍ते उन्‍होंने साहित्‍य की थोड़ी तमीज पैदा की और अच्‍छे नॉवेल रचे। बिहार में पत्रकारिता को नया आयाम देने वाले विकास कुमार झा के बाद 2012 का अंतर्राष्ट्रीय इंदु शर्मा कथा सम्मान वरिष्‍ठ राजनीतिक पत्रकार प्रदीप सौरभ को उनके उपन्यास तीसरी ताली पर देने का निर्णय लिया गया है। इसकी सूचना कथा यूके के महासचिव और वरिष्‍ठ कथाकार तेजेंद्र शर्मा ने लंदन से जारी एक प्रेस रीलीज के जरिये दी। हिजड़ों एवं समलैंगिकों के जीवन पर आधारित यह उपन्यास अपने आप में अनूठा है। यह सम्मान प्रदीप सौरभ को लंदन के हाउस ऑफ कॉमन्स में 28 जून 2012 की शाम को एक भव्य आयोजन में प्रदान किया जायेगा। अब तक यह प्रतिष्ठित सम्मान चित्रा मुद्गल, संजीव, ज्ञान चतुर्वेदी, विभूति नारायण राय, असगर वजाहत, महुआ माजी, नासिरा शर्मा, हृषिकेश सुलभ और विकास कुमार झा आदि को प्रदान किया जा चुका है।

एक जुलाई 1960 को कानपुर में जन्मे प्रदीप सौरभ ने इलाहाबाद विश्वविद्याल से हिंदी साहित्य में एमए की डिग्री हासिल की। जनआंदोलनों में हिस्सा लिया। कई बार जेल गये। वे साप्ताहिक हिंदुस्तान के संपादन विभाग से लंबे अर्से तक जुड़े रहे। आजकल वे द सी एक्सप्रेस में राजनीतिक संपादक हैं। सम्मानित उपन्यास के अतिरिक्त उनके दो अन्य उपन्यास मुन्नी मोबाइल एवं देश भीतर देश प्रकाशित हो चुके हैं। भारतेंदु कृत अंधेर नगरी, सर्वेश्वर का रचना संसार एवं कविता संग्रह दरख्त के दर्द उनकी अन्य प्रकाशित कृतियों में शामिल हैं। गुजरात दंगों की रिपोर्टिंग के लिए पुरस्कृत हुए। निजी जीवन में खरी-खोटी हर खूबियों से लैस। खड़क, खुर्राट और खरे। मौन में तर्कों का पहाड़ लिये इस शख्स ने कब, कहां और कितना जिया, इसका हिसाब-किताब कभी नहीं रखा। बंधी-बंधायी लीक पर कभी नहीं चले।

इस सम्मान के अंतर्गत दिल्ली-लंदन-दिल्ली का आने-जाने का हवाई यात्रा का टिकट, एअरपोर्ट टैक्‍स, इंगलैंड के लिए वीसा शुल्‍क, एक शील्ड, शॉल तथा लंदन के खास-खास दर्शनीय स्थलों का भ्रमण आदि शामिल होंगे। इस कार्यक्रम के दौरान भारत एवं विदेशों में रचे जा रहे हिंदी साहित्य के बीच के रिश्तों पर गंभीर चर्चा होगी।

लंदन से दीप्ति शर्मा

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *