मुखिया ने कहा था, हिंसा का उत्‍तर हिंसा ही हो सकता है

रणवीर सेना के कमांडर ब्रह्मेश्‍वर मुखिया से नवल किशोर की एक पुरानी बातचीत

कुख्‍यात ब्रह्मेश्‍वर मुखिया की कल सुबह साढ़े तीन बजे हत्‍या हो गयी। हत्‍या के बाद आरा में जीप, बसें जलायी जा रही हैं। बीडीओ के दफ्तर पर हमला हुआ है। एक दलित छात्रावास में आग लगा दी गयी है। ‘ए‍हतियात’ के तौर पर आरा में कर्फ्यू लगा दिया गया लेकिन हंगामा करने वालों पर कोई कार्रवाई नहीं की जा रही है। भारत सरकार का गृह मंत्रालय ‘मामले पर नजर’ रखे हुए है। आप समझ सकते हैं कि यह क्‍या और क्‍यों हो रहा है।

फारवर्ड प्रेस के उप संपादक नवल किशोर ने फरवरी, 2012 में मुखिया का एक लंबा इंटरव्‍यू किया था, उसके कुछ अंश पत्रिका ने मार्च, 2012 में छापा था। हिंसा के औचित्‍य, नीतीश कुमार के शासन काल, जेपी आंदोलन आदि पर मुखिया के विचार इस इंटरव्‍यू में आप देखेंगे। इस पूरे इंटरव्‍यू का टेक्‍स्‍ट वर्जन नीचे है। उसी का वीडियो वर्जन भी हम दे रहे हें। यह ब्रह्मेश्‍वर का ‘अंतिम’ इंटरव्‍यू तो है ही, कैमरे के सामने दिया गया ‘पहला’ इंटरव्‍यू भी है। विभिन्‍न टीवी चैनलों के पास ब्रह्मेश्‍वर मुखिया की सिर्फ कुछ बाइट्स हैं, जो उसने जेल से छूटने के बाद दिये थे। ऐसे में, यह इंटरव्‍यू बिहार के समाज और राजनीति के शोधार्थियों के लिए इंटरव्‍यू महत्‍वपूर्ण हो जाता है। मीडिया के लिए तो यह उपयोगी है ही। सारी सामग्री हमें फॉरवर्ड प्रेस के संपादक प्रमोद रंजन के सौजन्‍य से मिली है : मॉडरेटर

वर्ष 1995 से लेकर 2002 तक बिहार में लगभग 400 दलितों और ओबीसी का कत्‍ल करने का आरोपी रणवीर सेना का मुखिया, निचले तबके के छोटे से छोटे प्रतिरोध का जवाब गोलियों से देने वाला यह उच्‍चस्‍तरीय अभिमान से भरा यह शख्‍स हर प्रकार के अभिवादन का जवाब हरिओम से देता है। नमस्ते के बदले नमस्ते अथवा प्रणाम के बदले प्रणाम कहना इसे गवारा नहीं।

मुखिया जी, आप अपने जन्‍म एवं शिक्षा के संबंध में बताएं।

मेरा जन्‍म आरा जिले के खोपिरा नामक गांव में हुआ था। प्रारंभिक शिक्षा गांव के ही स्‍कूल में हुई थी। बाद में मैट्रिक करने के बाद मैंने जैन कालेज आरा से इंटर की परीक्षा पास की। मुझे नहीं पता कि मैंने ग्रेजुएशन किया या नहीं, क्‍योंकि अप्रैल 1971 में ही मैं अपने पंचायत का मुखिया बन चुका था। मुखिया बनने के बाद पढ़ाई छूट गयी और मैं पूरी तरह समाज के प्रति समर्पित हो गया था।

प्रारंभिक दिनों में राजनीति के प्रति आपकी सोच क्‍या थी?

मैं तो बचपन में ही मुखिया बन गया था। लेकिन फिर भी मैं इस समय की धूर्त राजनीति को नहीं मानता। राजनीति का मतलब ही धूर्तता है। धूर्त व्यवहार के जरिये राजनीत को मैंने कभी पसंद नहीं किया।

जिस कालखंड में आप सक्रिय रूप से सामाजिक सेवा से जुड़े, वह समय कर्पूरी ठाकुर, दारोगा प्रसाद राय और लोकनायक जयप्रकाश नारायण का दौर था, उस समय इन नेताओं के बारे में आपकी क्‍या राय थी।

जेपी आंदोलन को मैंने अपना वैचारिक समर्थन दिया था। सक्रिय समर्थन देना मेरे लिए संभव नहीं था। इसकी वजह यह कि एक तो मैं मुखिया था और दूसरा यह कि मेरे पास एक बड़ी गृहस्थी भी थी। गृहस्थी चलाने के लिए खेती करना आवश्‍यक था। इसलिए मैंने जेपी आंदोलन में भाग नहीं लिया लेकिन मैंने तहे दिल से इस आंदोलन को अपना समर्थन दिया था।

आपके बारे में कहा जाता है कि आपने रणवीर सेना का गठन किया। इसके पीछे आपकी प्रारंभिक सोच क्‍या थी।

ऐसी कोई बात नहीं कि रणवीर सेना का गठन जैसा कुछ किया गया था। आतंकवादी और माओवादी किसानों को हमेशा परेशान करते थे। किसानों की समस्याओं को लेकर मैं वर्ष 1970 से ही जुड़ा था। किसानों पर आक्रमण बढ़ा तो लोग जागरूक हुए। अपने ऊपर होने वाले अत्‍याचारों के कारण लोग एकजुट हुए और फिर एक संघर्ष मोर्चा का गठन किया गया। अब इस मोर्चा को लोग चाहे रणवीर सेना का नाम दें या कोई और नाम। लेकिन रणवीर सेना के गठन जैसी कोई बात नहीं थी। किसानों का इन सबसे कोई वास्ता नहीं था। उग्रवादियों के विरोध में किसान संगठित हुए थे और संगठन का निर्माण किया गया था। पहले इसका नाम राष्ट्रवादी किसान संगठन था।

आप पर आरोप लगाया गया कि आपके नेतृत्‍व में रणवीर सेना इतने सारे नरसंहार किये और फिर इन आरोपों के कारण आपको जेल में भी रहना पड़ा।

देखिए, मुझे जानबूझकर प्रशासन ने फंसाया। मैं किसी का नेतृत्‍व नहीं कर रहा था। किसान तो स्वयं जागरूक थे। सब प्रशासन की साजिश थी और मेरे ऊपर लगाये गये निराधार आरोपों का हश्र तो यही होना था। इन मामलों में रिहाई मिलनी ही थी। लेकिन परेशानी हुई। मैं 9 वर्षों तक नाहक जेल में रहा। आगे भी अभी 8-10 मुकदमे चल रहे हैं। इन सभी का सामना करना है।

लालू-राबड़ी राज और आज के नीतीश राज में आप कौन सा अंतर पाते हैं?

तुलना ही नहीं है दोनों शासनकालों में। दोनों शासनकाल की तुलना करना ही व्यर्थ है। जो एक धरती से नीचे जा रहा है और एक धरती के ऊपर। दोनों में तुलना कैसी। तुलना तो तब की जाती, जब दोनों एक दूसरे के समकक्ष होते। लालू की सरकार ही नहीं थी, अपराधियों की जमात थी।

तो क्‍या आप कहना चाहते हैं कि नीतीश का शासनकाल किसानों के लिए स्वर्णिम युग है?

एक तरह से ठीक है नीतीश जी का शासनकाल। जितना फंड है, उतने में बहुत अच्‍छा कर रहे हैं नीतीश।

इसका मतलब यह कि नीतीश कुमार के शासन से आप पूरी तरह संतुष्ट हैं?

हां, उनका दिल गवाही दे रहा है। वे चाहते हैं कि बिहार के लिए कुछ करें। नीतीश जी जो कहते हैं, वह दिल से महसूस किया जा सकता है। उनकी चाहत है कि बिहार विकास करे।

क्‍या आप ऐसा कोई अनुभव साझा करना चाहेंगे, जिसने आपको सबसे अधिक उद्वेलित किया।

देखिए जब इंसान पर किसी तरह का आफत या विपत्ति आती है और विशेषकर जब संत प्रवृत्ति वाले इंसान के अंदर प्रतिशोध की भावना जगती है, वह बहुत कठोर होती है। केंद्रीय ग्रामीण विकास मंत्री जयराम नरेश का आज बयान आया है कि नक्‍सलवाद को राजनीतिक प्रक्रियाओं के जरिये दूर किया जा सकता है, पूरी तरह बेबुनियाद है और बचपना भरा है। सरकार किसानों को उनकी उपज का लाभकारी मूल्य दे। किसान स्वत: ही मजदूरों को जायज मजदूरी देने लगेंगे। हिंसा का उत्तर हिंसा ही हो सकता है। यदि केपीएस गिल ने पंजाब में इस सिद्धांत को अपनाया होता, तो पंजाब में कभी अमन-चैन स्थापित नहीं हो पाता। जिस समय बिहार में जंगलराज था, उस समय आप किसी भी जिले में चले जाते, किसान से लेकर व्यवसायी सभी उग्रवादियों और आतंकवादियों से पीड़ित थे। उनकी समस्याओं को मैंने दिल से महसूस किया।

आज आप किसानों की समस्याओं को किस प्रकार देखते हैं?

देखिए, वैज्ञानिक विधि से खेती के लिए भी चकबंदी आवश्‍यक है। इसके लिए खेती का यांत्रिकीकरण भी आवश्‍यक है। लेकिन बिहार का दुर्भाग्‍य है कि अभी तक बिहार में चकबंदी नहीं किया गया है। थोड़ा बहुत जो पहले हुआ था, वह गलत ही था। मेरे हिसाब से किसानों को कोई सुविधा न दी जाए, केवल उनके उत्‍पादन की सही कीमत मिल जाए, तो वे स्वयं अपनी समस्याओं का समाधान कर लेंगे। सरकार जैसी तकनीक बता रही है, किसान उसके हिसाब से खेती कर रहे हैं, लेकिन उन्‍हें इसका लाभ नहीं मिल पा रहा है। किसान आत्‍महत्‍या के लिए विवश हैं। बेटियों की शादी नहीं कर पा रहे हैं। किसान अब हैं ही कहां? सब दरिद्र हैं।

क्‍या आपको लगता है कि बिहार के लिए भूमि सुधार आवश्‍यक है?

मुझे नहीं लगता है कि बिहार में जमीन की कोई समस्या है। वैसे बिहार सरकार को चाहिए कि जो जमीन अनुपयोगी है और किसी भी रूप में उसका उपयोग नहीं किया जा सकता है, उसकी बंदोबस्ती गरीबों के बीच कर दी जाए। इसके लिए चकबंदी आवश्‍यक है। यदि चकबंदी हो जाए तो फिर बिहार में जमीन की समस्या अपने आप समाप्त हो जाएगी।

बिहार में वामपंथ के कमजोर पड़ने के क्‍या कारण हैं?

वामपंथ केवल बिहार में ही नहीं, पूरी दुनिया में ही इसका नामोनिशान खत्‍म हो गया है। यह सब गलत नीतियों और सिद्धांतों के कारण हुआ है। चीन और रूस में वामपंथ था, वह अब है कहां?

जेल से रिहाई के बाद आपकी अपनी योजनाएं क्‍या हैं?

हां, हां किसानों के बीच सभी तरह का रचनात्‍मक कार्यक्रम चल रहा है। ऐसी बात नहीं है कि मैं बैठा हूं।

भविष्य में राजनीति को लेकर कोई योजना?

नहीं, नहीं। प्रत्‍यक्ष राजनीति में शामिल होने की मेरी कोई योजना नहीं है। लेकिन राजनीति पर नजर रखी जाएगी। वैसे मेरा मानना है कि जिस प्रकार से एमएलए फंड समाप्त हुआ है, उसी प्रकार से एमपी फंड भी समाप्त होना चाहिए। आरक्षण के मुद्दे मुझे नीतीश जी से जरा अलग कर रहे हैं। आरक्षण देश के लिए सबसे घातक है। भ्रष्टाचार की जननी भी आरक्षण ही है।

बिहार में सवर्ण आयोग के गठन के संबंध में आप क्‍या कहेंगे?

सवर्ण आयोग रूा बैकवर्ड आयोग या फिर हरिजन आयोग, सब पालिटिकल स्टंटबाजी है। मैं तो यह कहता हूं कि गरीबों के लिए आयोग बने। जो गरीब है, उसे सुविधाएं मिलनी चाहिए। मेरे हिसाब से समाज को पांच श्रेणियों में बांटा जाना चाहिए। अति निर्धन, निर्धन, सामान्‍य, अमीर और महाअमीर।

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *