खूनी साजिशों में लिपटी हुई राजनीति का दौर था वह!

व्‍हाइट हाउस और सिंह मेन्‍सन वाया गैंग्‍स ऑफ वासेपुर

♦ प्रियदर्शी प्रियम

यह लेख दरअसल रंजन ऋतुराज का है, जिसे प्रियदर्शी प्रियम ने अपनी फेसबुक वॉल पर जारी किया और मोहल्‍ला लाइव के मॉडरेटर को उसमें टैग किया। गलतफहमी की वजह से और उस लेख की प्रामाणिकता की जांच न कर पाने की वजह से हमने इस लेख को प्रियदर्शी प्रियम के नाम से ही मोहल्‍ला लाइव पर अपलोड कर दिया। इसके लिए हमने उनसे अनु‍मति भी मांगी और तब भी उन्‍होंने यह सूचना नहीं दी कि यह लेख उनका नहीं बल्कि रंजन ऋतुराज का है। हम यहां से प्रियदर्शी प्रियम का नाम डिलीट नहीं कर रहे हैं ताकि जब जब वे इस लेख को देखें, खुद पर शर्मिंदा हों। साथ ही उनका कोई भी लेख आगे से मोहल्‍ला लाइव में नहीं शेयर करने का निर्णय ले रहे हैं। बहरहाल, रंजन जी चाहें तो मोहल्‍ला लाइव को क्षमा कर सकते हैं : मॉडरेटर

बात 1956-57 की रही होगी। पटना जिले के बाढ़ अनुमंडल का एक नवयुवक ‘बीपी सिन्हा’ अपने जीवन यापन के लिए धनबाद पहुंचता है। तेज तर्रार – ओजस्वी। वहां की स्थिति भांप वह नवयुवक बहुत तेजी से मजदूर यूनियन में अपनी जगह बनाता है। नेतृत्व संभालता है। यहीं बीज पड़ा था, गैंग्स ऑफ वासेपुर का।

देखते–देखते वह नवयुवक पूरे कोयला क्षेत्र पर अपनी पकड़ मजबूत बनाता है – बिलकुल सिनेमा के माफिक। पर उसे ताकत की जरूरत महसूस होती है। इसी बीच उसके गैंग में शामिल होता है, बलिया का एक मजदूर – सूरजदेव सिंह। अब सूरजदेव सिंह बीपी सिन्हा का बॉडीगार्ड ही नहीं, उसका दाहिना हाथ भी बन जाता है। दस साल के अंदर पूरे कोयला क्षेत्र में बीपी सिन्हा इतने मजबूत हो जाते हैं कि वो अपने माली ‘बिंदेश्वरी दुबे’ को भी मजदूर नेता बना देते हैं। अमरीका से बाहर – व्हाइट हॉउस पहली दफा ‘धनबाद’ में ही बनता है।

अगले दस साल और बीपी सिन्हा बेताज बादशाह बने रहे। कहते हैं, उस दौरान उनकी बात स्व इंदिरा गांधी से हॉटलाइन पर होती थी। सूरजदेव सिंह भी अपने मालिक के साथ मजबूत होते गये। जाति का घुन लगना शुरू हो गया। आवाज उठने लगी, लाठी हमारी तो मिल्कियत भी हमारी। बीपी सिन्हा थोड़े विचलित हुए और अपने लोगों को आगे करने लगे। बिहार की महशूर जातिगत दुश्मनी इस कदर फैल गयी कि एक दो साल में कई हत्याएं हुई।

इसी बीच सत्ता से बाहर रहने के कारण इंदिरा गांधी भी कमजोर हो चुकी थीं। पूर्व प्रधानमंत्री और तब के युवा तुर्क नेता ‘चंद्रशेखर’ ने अपनी पूरी ताकत झोंक दी। खाई बहुत बड़ी हो चुकी थी। फिर भी बीपी सिन्हा का सूरजदेव सिंह पर जबरदस्त विश्वास रहा। सूरजदेव सिंह का रात बिरात व्‍हाइट हॉउस में आना जाना और गुरुमंत्र जारी रहा। फिर एक रात अपनों ने व्‍हाइट हॉउस में खून की गंगा बहा दी। जिन हाथों ने जिनको चलना सिखाया, उन्ही हाथों ने अपने राजनीतिक बाप की क्रूर हत्या कर अपने दिल को ठंडक पंहुचायी। दहल गया कोयलरी क्षेत्र। व्‍हाइट हॉउस की चमक खत्म हुई और ‘सिंह मैन्सन’ का झंडा लहराने लगा।

धीरे–धीरे बीपी सिन्हा के लोग हर सप्ताह मारे जाने लगे। आज झारखंड के हर शहर का दबंग अपने मकान का नाम ‘सिंह मैन्सन’ रखता है। रांची में भी सभी बड़े ठेकेदार अपने मकान का नाम ‘सिंह मैनसन’ ही रखते हैं।

कुदरत का खेल देखिए – आज खुद उस धनबाद के सिंह मैन्‍सन में करीब सोलह विधवा रहती हैं। कई वरिष्ठ पत्रकार बीपी सिन्हा को ‘बेनाईन डॉन’ कहते थे। यानी जिसके पनपने से कोई खतरा नहीं। परिवार बंट ही नहीं चुका, आपस में भी कई हत्याएं हो चुकी हैं।

दरअसल उस दौर में एक और डॉन और स्मगलर पैदा हुए थे। बेगूसराय के ‘सम्राट कामदेव सिंह’। कहते हैं ‘कामदेव सिंह’ के गोदाम के गेटकीपर के पास भी आज पटना में करोड़ों की धन संपदा है। वो खुद बेगूसराय के रोबिनहुड थे। हर साल अपने क्षेत्र में सैकड़ों गरीब बाप की बेटी की शादी का पूरा खर्च उठाते थे। वो खुद कम्युनिस्ट विचारधारा के मालिक थे, पर इंदिरा गांधी का आशीर्वाद मिला हुआ था। जब इंदिरा गांधी बेगूसराय आयीं, तब उन्होंने एक नंबर से लेकर सौ तक, सभी सफेद एंबेसेडर से उनका स्वागत किया था। इनकी भी हत्या तब ही हुई, जब इंदिरा गांधी थोड़ी कमजोर हुईं।

टाइम्स ऑफ इंडिया जब पटना संस्करण लेकर आया, तो उसने अपने प्रथम पृष्ठ पर इसी कामदेव सिंह को लेकर शुरुआत की। कहते हैं, बिहार पुलिस के वो सभी अधिकारी जो नेपाल सीमा पर पोस्टेड थे, जितनी तनख्‍वाह सरकार उन्‍हें देती थी, उतनी ही तनख्‍वाह कामदेव सिंह उन्‍हें देता था।

“इस ताबूत में कई कील हैं … अभी और कील लगने बाकी हैं!”

(प्रियदर्शी प्रियम। चंपारण के सामाजिक कार्यकर्ता। बिहार के कई सवालों पर संघर्ष वाहिनी के साथ सड़कों पर उतरते रहे हैं। संघर्ष वाहिनी की नींव जेपी के समय में रखी गयी थी और बोधगया आंदोलन सहित कई आंदोलनों में इस संगठन की अहम भूमिका रही। प्रियदर्शी फिलहाल अजीम प्रेमजी विश्‍वविद्यालय में अध्‍ययन कर रहे हैं। उनसे priyadarshi.priyam@facebook.com पर संपर्क किया जा सकता है।)

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *