कथाकार ओमा शर्मा को 2012 का स्‍पंदन कृति सम्‍मान

Oma Sharmaसाल 2012 के स्‍पंदन कृति सम्‍मान के लिए कथाकार ओमा शर्मा का चयन किया गया है। ललित कलाओं के लिए समर्पित भोपाल की स्‍पंदन संस्‍थान हर साल ये सम्‍मान देती है। ओमा शर्मा को उनके कथा संग्रह शुभारंभ और अन्‍य कहानियां के लिए यह सम्‍मान दिया जाएगा। उन्‍हें नं‍दकिशोर आचार्य, अर्चना वर्मा, शशांक, मधु कांकरिया और हरीश पाठक के निर्णायक मंडल ने इस सम्‍मान के लिए चुना है। सम्‍मान स्‍वरूप ओमा शर्मा को ग्‍यारह हजार रुपये की राशि और स्‍मृति चिन्‍ह दिसंबर में आयोजित स्‍पंदन के सम्‍मान समारोह कार्यक्रम में दिया जाएगा। उर्मिला शिरीष ने यह जानकारी एक प्रेस विज्ञप्ति के जरिये मोहल्‍ला लाइव को दी है।

ओमा शर्मा का जन्‍म 11 जनवरी 1963 को यूपी के बुलंदशहर जिले के दीघी गांव में हुआ। उनका बचपन गांव में ही बीता है। उन्‍होंने दिल्‍ली स्‍कूल ऑफ इकोनॉमिक्‍स से अर्थशास्‍त्र की पढ़ाई की और दिल्‍ली विश्‍वविद्यालय और जेएनयू से एमए एमफिल किया। फिलहाल वे भारतीय राजस्‍व सेवा से जुड़े हैं। शीर्ष पत्र-पत्रिकाओं में उनकी कहानियां, लेख, समीक्षा और साक्षात्‍कार प्रकाशित हुए हैं। उनके तीन कहानी संग्रह हैं, भविष्‍यद्रष्‍टा, कारोबार और शुभारंभ और अन्‍य कहानियां। साहित्‍य का समकोण उनके लेखों का संग्रह है। विश्‍वविख्‍यात जर्मन लेखक स्‍टीफन ज्‍वाइग की आत्‍मकथा का उन्‍होंने हिंदी में वो गुजरा जमाना के नाम से अनुवाद किया है।

प्रेस विज्ञप्ति

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *