पेड न्यूज रोकने के लिए होगी चुनाव प्रचार नियमों में ढील

♦ गजेंद्र यादव

चुनाव प्रचार के सख्त नियमों में छूट मिलने की संभावना है, अर्थात भविष्य में होने वाले चुनाव प्रचार फीके नहीं रहेंगे। चुनाव आयोग के यह कदम उठाने के पीछे धन लेकर खबर देने वाले पेड न्यूज की बढ़ती प्रवृत्ति है। यही कारण है कि चुनाव आयोग, चुनाव प्रचार को लेकर बनाए गए नियमों पर उदारता दिखाने का विचार कर रहा है।

इससे उम्मीदवारों को जनता से सीधा संपर्क बनाने में मदद मिल सकेगी। मुख्य चुनाव आयुक्त एसवाई कुरैशी ने कहा, अनेक राजनीतिक दलों का यह सुझाव रहा है कि चुनावों में धन बल और पेड न्यूज पर रोक लगाने के लिए मतदाताओं से संपर्क के परंपरागत तरीकों को उदार बनाने की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि राजनीतिक दलों की यह शिकायत थी कि दस दिनों के चुनाव प्रचार के दौरान जनता को यह पता नहीं चल पाता कि उसके क्षेत्र से उम्मीदवार कौन-कौन हैं, क्योंकि मीडिया किन्हीं कारणों से उनके बारे में खबरें ही नहीं छापते। कुरैशी ने कहा कि मतदाताओं को उम्मीदवारों के बारे में जानकारी देने के लिए विभिन्न सुझावों पर गंभीरता से विचार कर रहा है। आयोग इस बारे में जल्द निर्णय लेगा कि नियमों को उदार बनाने में कैसे आगे बढ़ा जाए।
मुख्य चुनाव आयुक्त के इस बयान का आशय यह है कि चुनाव प्रचार में उम्मीदवार और राजनीतिक दल अपने बैनर लगा सकेंगे, जिन पर पिछले एक दशक से भी ज्यादा समय से प्रतिबंध था। कुरैशी का यह बयान महत्वपूर्ण है क्योंकि आयोग ने हाल में ही सर्वदलीय बैठक बुलाई थी। इसमें राजनीतिक दलों के नेताओं ने चुनावों में धनबल के बढ़ते इस्तेमाल, राजनीति के अपराधीकरण व हाल के दिनों में पेड न्यूज की प्रवृत्ति पर गंभीर चिंता जताते हुए चुनाव आयोग से इन पर रोक लगाने के लिए उपाय करने की आवश्यकता बताई थी।

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *