सेहत और शिक्षा: दिल्‍ली के लिए नये वादे

अस्पतालों में तीस हजार नये बिस्तरों, पांच सौ नये स्कूलों और बीस नये कॉलेज शुरू करने का आम आदमी पार्टी का वादा

दिल्ली डायलॉग श्रृंखला के तहत आज आम आदमी पार्टी ने शिक्षा व स्वास्थ्य से जुड़े पार्टी के नीतिगत ढांचे पर रोशनी डाली। आज एक प्रेस कांफ्रेस में आम आदमी पार्टी के नेता आशीष खेतान ने बताया कि दिल्ली में सत्ता में आने के बाद आम आदमी पार्टी की सरकार शिक्षा व स्वास्थ्य को सर्वोच्च प्राथमिकता देते हुए इन दोनों क्षेत्रों में बेहतर बदलाव लाएगी।

आम आदमी पार्टी ने शिक्षा व स्वास्थ्य के क्षेत्र में अपनी आगामी योजनाओं को ऐसे वक्त में सार्वजनिक किया है, जब भाजपा सरकार ने स्वास्थ्य संबंधी खर्चे में दस फीसदी की कटौती की है।

आम आदमी पार्टी घर-घर जाकर स्वास्थ्य व शिक्षा के क्षेत्र में जरूरी बदलाव के लिए लोगों से राय लेगी। 10 जनवरी 2015 से शुरू हो रहे इस अभियान के तहत अगले दस दिनों में आम आदमा पार्टी के नेता 16 विधानसभा क्षेत्रों – ग्रेटर कैलाश, मालवीय नगर, जंगपुरा, रिठाला, शालीमार बाग, मॉडल टाउन, हरि नगर, तिलक नगर, जनकपुरी, मटियाला, राजिंदर नगर, कृष्णा नगर, कोंडली, उत्तम नगर, कस्तूरबा नगर और आरके पुरम में जाकर आम लोगों से इन दोनों मुद्दे पर संवाद करेंगे। इस अभियान में पार्टी के वरिष्ठ नेता आनंद कुमार, योगेंद्र यादव, आशीष खेतान, अतिशि मर्लेना, अजीत झा और सत्येंद्र जैन शामिल होंगे। ये नेता स्थानीय आरडब्ल्यू एसोसिएशन के पदाधिकारियों से स्वास्थ्य और शिक्षा से संबंधित मुद्दों पर उनकी प्रतिक्रिया लेंगे। इन बैठकों के अलावा, सभी 70 विधानसभा क्षेत्रों में पार्टी के उम्मीदवार आरडब्ल्यूए से स्वास्थ्य और शिक्षा से संबंधित बातचीत का भी आयोजन करेंगे।

आम आदमी पार्टी की स्वास्थ्य संबंधी नीति निम्न होगी…

➡ स्वास्थ्य सेवा पर कुल बजटीय आवंटन और उस पर खर्च होने वाली राशि 2,700 करोड़ रुपये से बढ़ाकर 4000 करोड़ रुपये की जाएगी।
➡ डॉक्टरों के 4000 और सहयोगी स्टाफ के 15,000 रिक्त पद भरे जाएंगे। ठेके व अस्थायी नियुक्तियों का प्रावधान समाप्त कर दिया जाएगा।
➡ शिशुओं व युवाओं और बच्चों के लिए रोग प्रतिरक्षक (Immunization) शत-प्रतिशत नि:शुल्क
➡ दिल्ली में फिलहाल तीन सौ प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र है। आम आदमी पार्टी नौ सौ नये प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र खोलेगी। इस तरह दिल्ली में 12 सौ प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों के बनाने से द्वितीयक और तृतीयक अस्पतालों पर भार कम हो जाएगा।
➡ द्वितीयक और तृतीयक स्तर के अस्पतालों में बिस्तरों की संख्या 10,600 से बढ़ाकर 40,000 की जाएगी। इसमें 4000 बिस्तर विशेष रूप से प्रसूति बेड भी होगा। इस तरह आम आदमी पार्टी दिल्ली में सौ फीसदी संस्थागत प्रसव का प्रावधान सुनिश्चित करेगी।
➡ आम आदमी पार्टी दिल्ली के प्रत्येक अस्पताल में नेत्र और दंत चिकित्सा देखभाल केंद्रों की स्थापना भी करेगी। सभी अस्पतालों में 24 घंटे की हेल्पलाइन की सुविधा होगी। हेल्पलाइन नंबर संचालन के लिए योग्य कर्मचारियों को रखा जाएगा।
➡ दीर्घकालिक स्वास्थ्य सेवा के प्रावधान और स्वास्थ्य सेवाओं को कुशलतापूर्वक सुनिश्चित करने के लिए दिल्ली के सभी निवासियों के लिए स्वास्थ्य कार्ड जारी किया जाएगा।
➡ भ्रष्टाचार खत्म करने के लिए दवाइयों और उपकरणों की खरीद प्रक्रिया को केंद्रीकृत किया जाएगा।
➡ सभी अस्पतालों को सौ फीसदी कंप्यूटरीकृत किया जाएगा। इससे जुड़ी एक पायलट परियोजना पहले से ही LNJP अस्पताल में एएपी सरकार द्वारा शुरू की जा चुकी है।
➡ नि:शुल्क एम्बुलेंस सेवा की सुविधा सभी अस्पतालों में उपलब्ध होगी। यहां तक कि निजी अस्पतालों में भी यह सुविधा होगी। पिछली फरवरी में आम आदमी पार्टी की सरकार ने आईसीयू सहित 100 एंबुलेंस का आदेश दिया था। घर से अस्पताल और अस्पताल से श्मशान के लिए नि:शुल्क शव वाहन सेवा भी बहाल की जाएगी।
➡ जेनेरिक दवाओं के लिए अधिक दुकाने खोली जाएंगी।
➡ ऑफिस जाने वाले मरीजों की सुविधाओं का ध्यान रखते हुए बाह्य मरीज अस्पतालों (ओपीडी) की कार्य अवधि में बढ़ोत्तरी होगी। सभी अस्पतालों में ऑनलाइन अपॉइंटमेंट की सुविधा भी होगी।
➡ दिल्ली के अस्पतालों में आपातकालीन सुविधाओं में विस्तार किया जाएगा। सभी अस्पतालों में इमरजेंसी बिस्तरों की संख्या में 10 से 40 फीसदी की बढ़ोतरी होगी।
➡ पांच सौ सस्ती दवा दुकानों पर वरिष्ठ नागरिकों के लिए नि:शुल्क दवाओं की सुविधा होगी।
➡ 38 अस्पतालों में diagnostic centers है। इन केंद्रों की क्षमता बढ़ायी जाएगी और 10 नये diagnostic centers खोले जाएंगे।

आज के प्रेस कांफ्रेस में आम आदमी पार्टी ने शिक्षा संबंधी अपने विजन का भी खुलासा किया। आम आदमी पार्टी अपने वार्षिक राज्य बजट का कम से कम बीस फीसदी शिक्षा पर खर्च करने के लिए प्रतिबद्ध है। शिक्षा प्रणाली में जवाबदेही तय करने के लिए आम आदमी पार्टी प्रधानाध्यापकों को मुख्य धुरी बनाएगा। उन्हें वित्तीय और प्रशासनिक स्वायत्तता दी जाएगी और आईआईटी/आईआईएम जैसे उच्च शिक्षा संस्थानों की तरह उनकी जवाबदेह भी तय की जाएगी।

दिल्ली के सरकारी स्कूलों का स्तर सुधारना आम आदमी पार्टी की प्राथमिकता होगी, जिससे अमीर हो या गरीब, सभी एक साथ सरकारी स्कूलों में पढ़ाई कर सके। आम आदमी पार्टी की योजना सरकारी स्कूलों का स्तर प्राइवेट स्कूलो के बराबर करना है। पांच सौ नौ स्कूल खोले जाएंगे। इसमें माध्यमिक और वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालयों के निर्माण पर विशेष ध्यान देगी ताकि दिल्ली के हर बच्चे का बेहतर से बेहतर स्कूल तक आसानी से पहुंचना सुनिश्चित हो सके।

शिक्षकों को क्लर्कों के समान बना दिया गया है। पढ़ाई की बजाय उनसे दूसरे काम कराये जाते हैं। आम आदमी पार्टी मानती है कि शिक्षकों में निवेश करने की जरूरत है। उनके शोषण को भी रोकने की जरूरत है। आम आदमी पार्टी मानती है कि शिक्षकों को उच्च वेतन देने की जरूरत है।

स्कूलों में शौचालय बनाये जाएंगे। इसके अलावा पर्याप्त रोशनी, पंखे, कंप्यूटर और इमारतों सहित उच्च गुणवत्ता वाले स्कूल के बुनियादी ढांचे के निर्माण पर जोर देगी। इन बुनियादी सुविधाओं की कमी की वजह से ही विशेष रूप से लड़कियां बीच में पढ़ाई छोड़ देती है। इससे बीच में पढ़ाई छोड़ने वाले बच्चों पर लगाम लगेगी।

दिल्ली के छात्रों के लिए बीस नये कॉलेज खोले जाएंगे। दिल्ली सरकार के अंबेडकर विश्वविद्यालय का विस्तार किया जाएगा।

ठेके और अस्थायी शिक्षकों के प्रावधान को खत्म किया जाएगा। सभी पदों को नियमित किया जाएगा। शिक्षकों के 17,000 खाली पदों को भरा जाएगा।

सरकार विश्वविद्यालयों और कॉलेजों में प्रतिभा को प्रोत्साहित करने के लिए तकनीकी इन्क्यूबेटरों की स्थापना करेगी। उद्यमियों को सहायता देने के लिए अभिनव और निजी स्टार्टअप त्वरक की सुविधा भी होगी। सौ फीसदी कार्यरत स्कूल प्रबंधन समितियों का गठन करेगी। वर्तमान में, सत्तर फीसदी स्कूल प्रबधन समितियां हैं। लेकिन ये सिर्फ कागजों में है। माता-पिता को एक प्रमुख हस्ताक्षरकर्ता या उपाध्यक्ष बनाया जाना चाहिए। माता-पिता, शिक्षकों, चतुर्थ श्रेणी कर्मचारियों और प्रशासकों प्रशासनिक और कार्यात्मक शक्तियां दिया जाना चाहिए। इसमें पचास फीसदी महिला सदस्य होनी चाहिए। स्कूल प्रबंधन समितियों को स्कूल विकास योजना में शामिल किया जाना चाहिए।

[Press Release]

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *