जाहिलों पर क्‍या कलम खराब करना!

नदीम एस अख्‍तर

मित्रगण कह रहे हैं कि मालदा पर मैं क्यों नहीं लिख रहा। मेरा जवाब है कि नहीं लिखूंगा। भीड़ की शक्ल में दानव की जेहनियत लिए उन जाहिलों पर अपनी कलम खराब नहीं करूंगा, जो खुद को मुसलमान कहकर इस्लाम का नाम खराब करते हैं। जिन्हें ये नहीं पता कि जिस पैगंबर मुहम्मद स.अ.व. के नाम पर वो उन्होंने ये खून-खराबा किया, उस पैगंबर मुहम्मद स.अ.व. ने वर्षों खुद पर कूड़ा फेंकने वाली बुढ़िया को कभी आंख उठाकर भी नहीं ताका। एक दिन जब मुहम्मद साहब नमाज पढ़ने के लिए जा रहे थे और रास्ते में बुढ़िया का कूड़ा ऊपर से उन पर नहीं गिरा तो उन्होंने दरियाफ्त की कि मामला क्या है। बूढ़ी अम्मा आज कहां हैं? उन्होंने मुझ पर कूड़ा क्यों नहीं फेंका, मैं तो इंतजार में था…

लोगों ने बताया कि बूढ़ी अम्मा की तबीयत बहुत ख़राब है और वो घर के अंदर बिस्तर पर है। सो आज आप पर कूड़ा फेंकने बाहर नहीं आ सकी। मुहम्मद साहब तुरंत इजाज़त लेकर उस बुढ़िया के घर के अंदर घुसे और उनका हालचाल पूछा। उनकी दवाई के बारे में पूछा। ये सब देखकर बूढ़ी अम्मा जार-जार रोने लगीं और मुहम्मद साहब से माफी मांगने लगीं। बूढ़ी अम्मा ने कहा कि मैंने जिंदगी भर आपके ऊपर कूड़ा फेंका और आपने उफ्फ तक नहीं की। और आज जब मैं बीमार हूं तो आप मेरी खैरियत जानने आये हैं। आप से अच्छा इंसान इस पूरी कायनात में नहीं हो सकता। आप सचमुच खुदा के पैगंबर हैं और आज मैं दिल से इस्लाम कबूल करती हूं। इससे आला धर्म कोई हो ही नही सकता।

तो मुहम्मद स.अ.व. के नाम पर नफरत फैलाने और मासूमों के खून से अपने हाथ रंगने वाले जाहिलों!!! तुम खुद को मुसलमान कहते हो!!! जो अल्लाह के प्यारे नबी और उनके आखिरी पैगंबर मुहम्मद स.अ.व. के जीवन से कुछ नहीं सीख पाये, उनके कामों से कोई सबक नहीं ले पाये, वो उनकी उम्मत में शामिल होने का हक रखते हैं क्या? उस भीड़ में शामिल हर आदमी को अपने गुनाह की तौबा करनी चाहिए। यही हक है। बाकी माफ़ करना या ना करना तो खुदा के हाथ मे है।

किसी के कहने से कोई छोटा या बड़ा नहीं हो जाता। अगर कोई सूरज पर थूकेगा, तो गंदगी उसी के मुंह पे गिरेगी। इसमें सूरज का कुछ नहीं बिगड़ने वाला। सो मुहम्मद साहब के नाम पर उत्पात मचा रहे लोगों से यही कहना चाहूंगा कि

घर से मस्जिद है बहुत दूर, चलो यूं कर लें
किसी रोते हुए बच्चे को हंसाया जाए

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *