Category: सिनेमा

0

#PK से पहले #TheManFromEarth देखें

कल और आज एक ही फिल्म देखी, दो बार, The Man From Earth… इससे पहले भाई हितेंद्र अनंत से गूगल हैंगआउट पर घंटेभर बात हो रही थी। धर्म की वैज्ञानिक विवेचना करने वाले बुद्ध...

0

कतरा कतरा मिलती है, कतरा कतरा जीने दो

♦ सैयद एस तौहीद मन में कभी कभी ढेर सारे सवाल होते हैं। जिंदगी की धूप-छांव सवाल बुनती है। सुख क्‍या है? इसकी परिभाषा क्या है? क्या व्यक्ति की क्षणिक खुशी सुख है? इत्र...

1

#CBFC सर्टिफिकेट देता है, कैंची नहीं रखता

जब से धर्म के एजेंटों ने रांग नंबर वाले मुहावरे को लेकर राजू हिरानी और आमिर खान की फिल्‍म पीके पर हमला बोला है, तब से सेंसर बोर्ड एक खास विचारधारा वाली पार्टी और...

0

पशु प्यार के फरिश्ते हैं #Rumi #Hachi

♦ सैयद एस तौहीद इंसान और पशु का रिश्ता संसार का सबसे अनोखा रिश्‍ता होता है। इंसानों की संवेदना उस रिश्‍ते को कायम रख सकती है। अधिकतर लोग पशुओं को लेकर संवेदनशील होते भी...

0

एक ट्वीट ने संपादक को संघी बना दिया

♦ जगदीश्‍वर चतुर्वेदी उत्तर प्रदेश सरकार ने “पीके” को मनोरंजन कर से मुक्त करने का फैसला क्या लिया, गोया संघियों पर बिजली गिर पड़ी है। अपनी संघी पक्षधरता के लिए ख्यात दैनिक जागरण के...

0

सिनेमा में गांव की याद #HeeraMoti

♦ सैयद एस तौहीद मुंशी प्रेमचंद की चुनिंदा रचनाओं का फिल्मों में रूपांतरण हुआ था, जिसमें ‘दो बैलों की कथा’ पर आधारित और बलराज साहनी अभिनीत हीरा मोती का स्मरण कर रहा हूं। बलराज...

0

#PK पर अतिवाद से बचें #SupportforPK

♦ अविनाश पीके [PK The Film] पर दो तरह का अतिवाद देख रहा हूं। एक वे हैं, जो ईश्‍वर में आस्‍था नहीं रखते और पीके को अंतत: एक भ्रम फैलाने वाली फिल्‍म बता रहे...

0

ध्वनि प्रदूषण वाले धर्म पर हमला है #PK

♦ मनोज खरे एक उत्कृष्ट फिल्म “PK” में कोई तथ्यात्मक मुद्दा नहीं मिला, तो अब फिल्म में एक मुसलमान एक्टर होने को ही टारगेट बना कर सब पिल पड़े हैं। अरे महान आत्माओं, फिल्म...

0

“पीके” असरदार बा #SupportForPK

♦ नबीन कुमार ‘भोजपुरिया’ एह सिनेमा के बारे मे हम पिछिला एक साल से सुनत आ पढत बानी, कबो आमिर खान भोजपुरी बोलिहे त कबो भोजपुरी के ट्युसन करत बाडे, त कबो लंगटे वाला...

0

हमारे महानगरों की आत्‍मकथा है #Ugly

♦ अनुज शुक्ला अनुराग कश्यप की ‘अगली’ महानगरीय विस्तार में उपजी मध्यवर्गीय परिवारों की अपनी विडंबना है। यह एक ऐसा सच है, जिसमें रिश्तों का बिखरना है, उससे उपजे नये मूल्यों की देन –...