Category: फेसबुक से

0

#PK से पहले #TheManFromEarth देखें

कल और आज एक ही फिल्म देखी, दो बार, The Man From Earth… इससे पहले भाई हितेंद्र अनंत से गूगल हैंगआउट पर घंटेभर बात हो रही थी। धर्म की वैज्ञानिक विवेचना करने वाले बुद्ध...

0

#PK पर अतिवाद से बचें #SupportforPK

♦ अविनाश पीके [PK The Film] पर दो तरह का अतिवाद देख रहा हूं। एक वे हैं, जो ईश्‍वर में आस्‍था नहीं रखते और पीके को अंतत: एक भ्रम फैलाने वाली फिल्‍म बता रहे...

0

त्रिलोचन के सॉनेट और “रामुरा झिं-झिं”

♦ सुशोभित सक्‍तावत स्‍थापना पत्रिका के सितम्बर 1970 के अंक में त्रिलोचन पर फणीश्‍वरनाथ रेणु का एक आत्‍मीय संंस्‍मरण प्रकाशित हुआ था। बाद में भारत यायावर ने अपनी त्रैलोक्‍यजयी उपाय-कुशल अनुसंधान-बुद्धि से इसे खोजकर...

0

एक अंधा कुआं है “मेड इन इंडिया”

यह टिप्‍पणी जयपुर से डॉ दुर्गाप्रसाद अग्रवाल ने अपनी फेसबुक वॉल पर साझा की थी। इसमें आयी बातें और तथ्‍य उन्‍हें कहीं मिले, तो इसे जरूरी समझ कर उन्‍होंने अग्रसारित कर दिया। हम भी...

0

बदलेगा संसार, जमाना बदलेगा!

♦ उदय प्रकाश हिंदी साहित्य की ताकतवर धारा में अभी-भी भले ही ‘विचारधारा’ और ‘पॉलिटिक्स’ को लेकर प्राचीन कोहराम या घमासान मचा हुआ हो, तरह-तरह की मोर्चेबंदी हो रही हो, उत्सव-महोत्सव या ‘इवेंट्स’ आयोजित...

3

कौन लिख जाता है दीवारों पर अपनी असहमति

उदय प्रकाश ♦ मैंने वैशाली के अपने फ्लैट के स्टोर रूम में बहुत सी पुरानी किताबें, ग्रंथ और पांडुलिपियां भर रखी हैं। बीच में, पिछले साल लंबे अर्से के लिए बाहर की यात्राओं में निकल गया था। पत्नी भी अपने मायके और ससुराल में थीं। तो स्टोर रूम में दीमकों का आक्रमण हो गया। कुछ दस्तावेज धूल और कागजी बुरादे में बदल गये।

मोबाइल चोली में रखबू त सिम लॉक हो जाई 3

मोबाइल चोली में रखबू त सिम लॉक हो जाई

मनोज भावुक ♦ आज स्टेडियम में उमड़ी भीड़ की मनसा को भांप गये रवि बाबू … हर हर महादेव के बाद सुनाया … लहंगा उठा देब रिमोट से … मोबाइल चोली में रखबू त सिम लॉक हो जाई। जनता को क्या चाहिए … मनोरंजन। मनोरंजन हो रहा था। आयोजक खुश … जनता खुश … कलाकार खुश। और क्या चाहिए? मन गया छठ उत्सव … अब पता नहीं छठी मइया को ये गीत कैसे लगे? … मैं भीड़ को चीरते हुए बाहर निकला। कुछ लोग कह रहे थे … खूब जकवलस नू रवि किसनवा … फिर किसी और ने कहा – नास त देहलन। … किसी और ने फुसफुसाया … कुछ नया कइलन ह का? … सरसती पूजा में हिंदी गाना नइखे बाजत – तू चीज बड़ी है मस्त मस्त, चाहे चोली के पीछे क्या है? बोका कहीं का … ई कुल्हि ना होखी त भीड़े ना जूटी … भीड़ ना जुटी त नेते ना अइहें … फेर आयोजन केकरा खातिर? चलें है परवचन देने। … और वह आदमी फिर गुनगुनाने लगा – … मोबाइल चोली में रखबू त सिम लॉक हो जाई।

कुछ चिंता मोदी के भ्रष्‍टाचार विरोधी प्रहसन की भी करें! 0

कुछ चिंता मोदी के भ्रष्‍टाचार विरोधी प्रहसन की भी करें!

आशुतोष कुमार ♦ लालू के जेल जाने से फेसबुक पर मोदीमंडली में भी खुशी की लहर है। होनी भी चाहिए। लेकिन मोदीमंडली को खुशी के साथ चिंता भी होनी चाहिए। आखिर इसी सीबीआई का प्रेत मोदी के सर पर भी मंडला रहा है। लेकिन एक प्रेत तो अभी मोदी की गोद में ही बैठा है। मोदी के प्यारे जलसंसाधन मंत्री बाबू बोकारिया। पिछले जून में ही अदालत द्वारा उन्हें 54 करोड़ के अवैध खनन का दोषी ठहराया जा चुका है। चूंकि यह सुप्रीम कोर्ट के ऐतिहासिक फैसले के जरा पहले हो गया था, इसलिए तकनीकी रूप से वे विधानसभा के सदस्य और मंत्री बने रह सकते हैं। कांग्रेस को भ्रष्टाचार का एकमात्र स्रोत बताने वाले मोदी ने इस तकनीकी सुविधा का लाभ उठा कर उन्हें अपने पद पर बनाये रखा है।

कार्टून से बौखलाये आसाराम के भक्‍त, बदतमीजी पर उतरे 9

कार्टून से बौखलाये आसाराम के भक्‍त, बदतमीजी पर उतरे

आसाराम अभी जोधपुर जेल में हैं। उन पर नाबालिग लड़की के यौन शोषण का आरोप है। मामला संगीन है और सबूत पुख्‍ता, लिहाजा पिछले हफ्ते कोर्ट ने उनकी जमानत भी खारिज कर दी। अपनी...

वल्‍गर गानों का जिम्‍मेदार कौन है? हम, आप या वे? 0

वल्‍गर गानों का जिम्‍मेदार कौन है? हम, आप या वे?

असल समस्‍या आदिवासी हैं, नक्‍सलवाद तो बहाना है!

[10 June 2013 | Read Comments | ]

Naxal Adivasi 365

ग्‍लैडसन डुंगडुंग ♦ सरकार चाहती है कि आदिवासी इलाकों को लाल गलियारा बताकर खाली कर दिया जाए। इसके लिए दो लाख अर्द्धसैनिक बतैनात हैं। तैयारी चल रही है कि इसे कैसे औद्योगिक गलियारा बनाया जाए।

Read the full story »

दिव्‍या गुप्‍ता जैन ♦ बच्चे जिस ऑटो या बस में सफ़र करते है, उनमें ऐसे गाने बजते है, किसी फंक्शन में जाते है वहां ये गाने बजते हैं… और तो और, दुर्गा पूजा और गणेश पूजा के पंडालों में ऐसे गाने बजते हैं।