Category: uncategorized

देश बंटे, लेकिन रवींद्रनाथ टैगोर नहीं, वे सबके थे 7

देश बंटे, लेकिन रवींद्रनाथ टैगोर नहीं, वे सबके थे

विश्‍वजीत सेन ♦ रवींद्रनाथ से पहले भी बंगाल समाज को सुधारने की, उसे पिछड़ापन से मुक्ति दिलाने की कोशिशें शुरू हुईं। लेकिन समाज सुधारकों का, संस्‍कृति पुरुषों का बुरा हाल हुआ। सतीदाह प्रथा को रद्द करवाने में राजा राममोहन राय ने अग्रणी भूमिका निभायी। कोलकाता के ब्राह्मण संबे समय तक उनके घर के सामने मलमूत्र से भरे भाड़ फेंकते रहे। चूंकि उन्होंने विधवाओं की शादी करवाने की हिम्मत दिखायी थी, इसलिए ईश्वरचंद्र विद्यासागर को कोलकाता से खदेड़ करमाटांड़ भेज दिया। करमाटांड़ की वादियों में संथालों के बीच आखिरकार उन्हें सुकून मिला। रवींद्रनाथ के पूर्वजों की स्थिति भी यही होती, चूंकि वे धनी, साधन संपन्न और आत्मनिर्भर थे, इसलिए इस स्थिति में जाने से बच गये।

खबर के रूप में आया भ्रष्टाचार का भेड़िया 0

खबर के रूप में आया भ्रष्टाचार का भेड़िया

♦ गजेंद्र यादव भारत और दुनिया के अन्य देशों के जनमीडिया में फैला भ्रष्टाचार उतना ही पुराना है जितना कि खुद मीडिया. यदि समाज में भ्रष्टाचार है तो यह उम्मीद करना बेकार है कि...

बंदीगृह से बाहर आया ‘लोकतंत्र’ 0

बंदीगृह से बाहर आया ‘लोकतंत्र’

♦ गजेंद्र यादव म्यामांर में लोकतंत्र रिहा हो गया है. सू की की नजरबंदी खत्म हो गयी है. दमन के दौर में भी अपने दृढ़ संकल्प और शांतिपूर्ण विरोध के साथ लोकतंत्र समर्थक नेता...

कमाल है जो बात प्रधानमंत्री को बोलनी चाहिए वह प्रीती जिंटा बोल रही हैं 0

कमाल है जो बात प्रधानमंत्री को बोलनी चाहिए वह प्रीती जिंटा बोल रही हैं

♦ गजेंद्र यादव दिल्ली से प्रकाशित होनेवाले सभी अखबारों ने आज अयोध्या पर फैसले को ही लीड स्टोरी बनाया है. अंग्रेजी दैनिक टाइम्स आफ इंडिया और हिन्दुस्तान टाइम्स ने पूरे मसले पर तफ्शील से...

फणीश्‍वर नाथ रेणु के बेटे ने भाजपा से टिकट लिया 36

फणीश्‍वर नाथ रेणु के बेटे ने भाजपा से टिकट लिया

डेस्‍क ♦ यह रपटनुमा विश्‍लेषण इस बात पर जोर देता है कि भाजपा अगर किसी सेकुलर पृष्‍ठभूमि वाले व्‍यक्ति को टिकट देती है, तो भाजपा के धतकर्मों को भूलकर उस व्‍यक्ति को वोट देना चाहिए। ऐसे मामलों में विचारधारा का प्रश्‍न खड़ा नहीं करना चाहिए। यानी यह रपट एक तरह से राजनीति की बेसिक समझदारी के साथ एक मजाक है – फिर हम इसलिए इसे छाप रहे हैं क्‍योंकि मोहल्‍ला लाइव में छापने के लिए आग्रहपूर्वक भेजा गया है। हमारा मानना है कि वेणु जी को भाजपा से टिकट नहीं लेना चाहिए था और रेणु जी की विश्‍वसनीयता किसी भी पार्टी और विचारधारा से बड़ी है, तो उनके नाम पर राजनीति की नदी में उतरने के लिए उनके वंशजों को भाजपा की नाव पर बैठने की जरूरत नहीं पड़नी चाहिए।

प्रचार की छूट हो तो रुक जाएगा पेड न्यूज 0

प्रचार की छूट हो तो रुक जाएगा पेड न्यूज

♦ गजेंद्र यादव सोमवार को सभी पार्टियों के नेताओं के साथ मुख्य चुनाव आयुक्त ने नयी दिल्ली में बैठक की और उनसे पैसा लेकर खबर लिखने और प्रकाशित करने की समस्या पर बात की....

मैंने राम को नहीं देखा 52

मैंने राम को नहीं देखा

अविनाश ♦ यह कविता मुंबई में रहने वाले एक युवक की है। इस पर अनुराग कश्‍यप की नजर पड़ी और उन्‍होंने फेसबुक पर नारा लगाया, भोमियावाद जिंदाबाद। मैंने कविता पढ़ी और मुझे ठीक लगी। मैंने अनुराग को मैसेज किया मुझे इन सज्‍जन के बारे में बताएं। उन्‍होंने बताया कि होनहार लड़का है – सिनेमा हॉल में रहता है – और सपने देखता है। मैं इसी परिचय के साथ मोहल्‍ला पर उनकी कविता जारी कर रहा हूं। आज दो कविता हमारे हिस्‍से में आयी है और दोनों का स्रोत फेसबुक है। पहली स्‍वानंद की कविता और अब दूसरी अनुराग भोमिया की कविता। हिंदी की त‍थाकथित मुख्‍यधारा में शामिल होने को लेकर निरुत्‍साहित इस किस्‍म की कविताई हमारे समय में अपने मन की सबसे ईमानदार अभिव्‍यक्तियां हैं।

माइ नेम इज बाल ठाकरे 0

माइ नेम इज बाल ठाकरे

♦ गजेंद्र यादव साल भर पहले की बात है. 26 फरवरी की देर शाम मुंबई के लीलावती अस्पताल में एक बीमार व्यक्ति को रुटीन चेक-अप के नाम पर अस्पताल लाया गया. डाक्टरों ने परीक्षण...

जिलानी करना चाहता था बाबरी का सौदा 0

जिलानी करना चाहता था बाबरी का सौदा

♦ गजेंद्र यादव बाबरी विध्वंस से दो दिन पहले 4 दिसंबर 1992. स्थान-कच्चा हाता, लखनऊ, जफरयाब जिलानी का आवास. एक तरफ लाखों कारसेवक श्री राम जन्मभूमि पर निर्णायक लड़ाई लड़नें के लिए अयोध्या में...

गजगामिनियों के कारण गर्त में गई भाजपा 0

गजगामिनियों के कारण गर्त में गई भाजपा

♦ गजेंद्र यादव उत्तर प्रदेश भाजपा वेटिंलेटर पर है. कहा जाता है कि प्रदेश भाजपा के पतन के लिए कल्याण कुसुम रिश्ते बहुत हद तक जिम्मेदार हैं. लेकिन क्या प्रदेश में अकेले कल्याण कुसुम...