Category: youtube

इन तस्‍वीरों में युवाओं के चेहरे पर फैली उजास देखिए… 0

इन तस्‍वीरों में युवाओं के चेहरे पर फैली उजास देखिए…

डेस्‍क ♦ मुंबई, हुबली-धारवाड़, बैंगलोर, मदुरै, कांचीपुरम, विशाखापट्टनम, बहरामपुर, पटना और देवरिया होते हुए जागृति यात्रा आज दिल्‍ली पहुंची है। देश में उद्यम से जुड़े आदर्शों के साथ रूबरू होते हुए यात्री नये भारत के भविष्‍य का खाका भी खींच रहे हैं। इस वीडियो में कुछ यात्रियों की स्टिल तस्‍वीरें हैं।

नंदिनी वैद्यनाथन एक दबंग और भड़काऊ महिला थी! 0

नंदिनी वैद्यनाथन एक दबंग और भड़काऊ महिला थी!

डेस्‍क ♦ इनफोसिस में पहला लेक्‍चर नंदिनी वैद्यनाथन का था। वह एक दबंग और भड़काऊ महिला थी। आपके अंदर उद्यम का कीड़ा है, तो उसे वह अपने अंदाज में बाहर निकालती है। छोटे-मोटे उत्‍साह पर पानी फेरती है और जिनमें जिद होती है, उसे एक दिशा देने की कोशिश करती है।

वे डॉ माशेलकर थे, जिन्‍होंने युवाओं को उत्‍साह की नदी में उतारा! 0

वे डॉ माशेलकर थे, जिन्‍होंने युवाओं को उत्‍साह की नदी में उतारा!

डेस्‍क ♦ 24 दिसंबर 2011 … पूरे दिन आईआईटी, पवई (मुंबई) में इंडक्‍शन प्रोग्राम चला। यात्रा के प्रबंधन से जुड़े लोगों ने युवा यात्रियों को यात्रा से जुड़े तमाम तिलस्‍मों और रहस्‍यों को खोला। सबने अपनी अपनी तरह से बताया कि सन 97 में आजाद भारत रेल यात्रा से शुरू हुए जागृति के सपने को इक्‍कीसवीं सदी में कैसे फिर से जगाया गया।

18 डिब्‍बों की इस रेल में हैं भूमंडल के हर कोने के युवा! 0

18 डिब्‍बों की इस रेल में हैं भूमंडल के हर कोने के युवा!

डेस्‍क ♦ कुर्ला जंक्‍शन पर 24 की आधी रात को जागृति की रेल आयी। तिरंगा झंडा इंजन रूम के दरवाजे पर खड़े कुछ युवाओं के हाथ में लहरा रहा था। इंतजार में खड़े साढ़े चार सौ युवा यात्री और डेढ़ सौ के करीब जागृति यात्रा के वॉलेंटियर्स रेल पर चढ़े। 18 डिब्‍बों की इस रेल को देख कर नयी तरह के रोमांच की लहर थी।

इस रेल यात्रा में होती है जोश की जोरदार बारिश! 0

इस रेल यात्रा में होती है जोश की जोरदार बारिश!

डेस्‍क ♦ पूरी यात्रा में नींद के लिए बस कुछ घंटे होते हैं, लेकिन जागति के पूरे पूरे घंटों के बावजूद युवाओं में जोश रहता है। वे हमेशा उत्‍साह में नजर आते हैं। वे इस पूरी यात्रा में खुद को नये इन्‍नोवेशन के लिए झोंक देना चाहते हैं। ज्‍यादातर इस मूड में नजर आते हैं कि यात्रा से लौट कर नयी इबारत लिखनी है, अपनी जिंदगी की भी और अपने समाज की भी।

कुर्ला जंक्‍शन पर कुछ गीत, कुछ इंतजार… 0

कुर्ला जंक्‍शन पर कुछ गीत, कुछ इंतजार…

डेस्‍क ♦ यह पहले दिन की जागृति यात्रा की तस्‍वीर है। हम सब लोग कुर्ला रेलवे स्‍टेशन पर हैं। ट्रेन अभी आयी नहीं है। क्रिसमस के पहले की रात है, 24 दिसंबर। इस रात की रिपोर्ट आपने मोहल्‍ला लाइव पर पढ़ी होगी। यात्रा में हर दिन की वीडियो डायरी बन रही है। इस वीडियो डायरी में देखिए कि पहली बार जागृति रेल में बैठने से पहले इंतजार की बेकरारी कैसे संगीत में झड़ रही है…