Tagged: Arvind Kejriwal

0

तुम बिल्कुल हम जैसे निकले!

➧ आकार पटेल तुम बिल्‍कुल हम जैसे निकले अब तक कहां छिपे थे भाई वो मूरखता, वो घामड़पन जिसमें हमने सदी गंवायी आखिर पहुंची द्वार तुम्‍हारे अरे बधाई, बहुत बधाई! ➧ फहमीदा रियाज़ आम...

0

देश की जमीन अब अमीरों की, रईसों की

आम आदमी पार्टी ने चार जनवरी को अपने दिल्ली डायलोग के जरिये भूमि-अधिग्रहण अध्यादेश का विरोध किया था। सरकार के असंवेदनशील अध्यादेश पर आम आदमी पार्टी ने कड़ी आपत्ति जतायी और आज देश के...

0

#AAP के दान पर आप की राजनीति

चंदा जुटाने के आम आदमी पार्टी के नये अभियान #IFundHonestParty चैलेंज का दान कर्ताओं व समर्थकों द्वारा बड़े ही उत्साह व गर्मजोशी के साथ स्वागत किया जा रहा है। आप संयोजक अरविंद केजरीवाल ने...

1

#AAP बदलेगी दिल्‍ली के गांवों की तस्‍वीर

आम आदमी पार्टी ने दिल्ली डायलॉग के चौथे चरण में विलेज डायलॉग के पहले हिस्से का आयोजन किया। पश्चिमी दिल्ली के नजफगढ़ में छावला के नजदीक घुमनहेरा गांव (Ghumanhera village) के सामुदायिक केंद्र में...

आपको चिट्ठियां तो लेनी ही पड़ेंगी मुख्‍यमंत्री जी… 0

आपको चिट्ठियां तो लेनी ही पड़ेंगी मुख्‍यमंत्री जी…

पिछले दिनों आम आदमी पार्टी ने दिल्‍ली में बिजली पानी के मुद्दे पर बड़ा आंदोलन किया। ये मुद्दा हर नागरिक से जुड़ा है। जाहिर है, विशाल जनसमर्थन मिला। लोगों ने बिजली पानी से जुड़ा...

बिजली-पानी के लिए होगा सविनय अवज्ञा आंदोलन 0

बिजली-पानी के लिए होगा सविनय अवज्ञा आंदोलन

♦ अरविंद केजरीवाल ♣ दिल्ली में पानी और बिजली के बिल बढ़ने का केवल एक कारण – भ्रष्टाचार। ♣ दिल्ली की जनता के लिए ये बिल भरना नामुमकिन हो रहा है। ♣ जनता डरी...

अंबानी जी, एक तरफ आपका पैसा है दूसरी तरफ देश है 0

अंबानी जी, एक तरफ आपका पैसा है दूसरी तरफ देश है

मुकेश अंबानी के नाम अरविंद केजरीवाल का खुला पत्र दिनांक : 22.01.2013 श्री मुकेश अंबानी रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड मेकर्स चैंबर्स – IV, नरीमन पॉइंट, मुम्बई 400021 श्री मुकेश अंबानी जी, अभी हाल ही में...

केजरीवाल से क्‍यों मुठभेड़ करने लगता है मीडिया? 2

केजरीवाल से क्‍यों मुठभेड़ करने लगता है मीडिया?

मीडिया का एक बड़ा तबका इस बात को न तो मानने पर तैयार है और न ही इसे पचा पा रहा है कि केजरीवाल उनसे ज्यादा काबिल हैं। बमुश्किल पांच फीसदी को छोड़ दीजिए, तो सारे गूगल ज्ञान की गंगा में मंदाकिनी बने नहा रहे हैं। खुलासे करने वाले से जिरह ऐसे होती है, जैसे क्राइम उसी ने किया है, लेकिन दुनिया की सबसे बड़ी डेमोक्रैटिक सरकार चला रहा सिस्टम उसे गलत नहीं साबित कर पा रहा। अरविंद केजरीवाल से इंटरव्यू के दौरान सवालों को स्क्रू बनाने में वो जी जान लगा देते हैं। इनमें से किसी पत्रकार का लालू, मुलायम, मायावती, राजा, कलमाडी से इस तरह के इंटरव्यू और सवाल नहीं देखे सुने गये।

राजनीतिक पार्टी बनाने का पहला सुझाव अन्‍ना का ही था 3

राजनीतिक पार्टी बनाने का पहला सुझाव अन्‍ना का ही था

डेस्‍क ♦ जुलाई 2012 में हुए अनशन के बाद टीम अन्ना ने एक सर्वेक्षण की बात कही थी। इस सर्वेक्षण में अस्सी फीसदी लोगों ने राजनीतिक पार्टी का समर्थन किया था। गौरतलब है कि अन्ना हजारे ने इस सर्वे की वैधता और वैज्ञानिकता पर सवाल खड़े करके इसे खारिज कर दिया था। लेकिन अरविंद केजरीवाल तहलका को बताते हैं कि जनता के बीच सर्वेक्षण करवाने का विचार अन्ना हजारे ने स्वयं ही दिया था। इतना ही नहीं, वे आगे कहते हैं कि अन्ना ने ही इस सर्वेक्षण का तौर-तरीका भी सुझाया था। हमने उन्हीं के सुझाव के आधार पर सर्वेक्षण करवाया। पर अब अन्ना ने अपना मन बदल लिया है। मुझे इसकी कोई वजह समझ में नहीं आती।

दस दिनों का अनशन [ हरिशंकर परसाई ] 3

दस दिनों का अनशन [ हरिशंकर परसाई ]

हरिशंकर परसाई ♦ आज बाबा ने एक और कमाल कर दिया। किसी स्वामी रसानंद का वक्तव्य अख़बारों में छपवाया है। स्वामीजी ने कहा है कि मुझे तपस्या के कारण भूत और भविष्य दिखता है। मैंने पता लगाया है क बन्नू पूर्वजन्म में ऋषि था और सावित्री ऋषि की धर्मपत्नी। बन्नू का नाम उस जन्म में ऋषि वनमानुस था। उसने तीन हजार वर्षों के बाद अब फिर नरदेह धारण की है। सावित्री का इससे जन्म-जन्मान्तर का संबंध है। यह घोर अधर्म है कि एक ऋषि की पत्नी को राधिका प्रसाद-जैसा साधारण आदमी अपने घर में रखे। समस्त धर्मप्राण जनता से मेरा आग्रह है कि इस अधर्म को न होने दें। इस वक्तव्य का अच्छा असर हुआ। कुछ लोग ‘धर्म की जय हो!’ नारे लगाते पाये गये।