Tagged: kamayani

मैं तुम्‍हारा गुस्‍सा समझती हूं… तुम लड़ो… हम साथ हैं… 0

मैं तुम्‍हारा गुस्‍सा समझती हूं… तुम लड़ो… हम साथ हैं…

कामायनी ♦ आज कल मैं लगातार गुस्से से भरी रहती हूं। बहुत साल पहले जब यह गुस्सा मुझ पर हावी हुआ था, तब मेरी मनोविज्ञान की एक मददगार शिक्षिका ने मुझे एक किताब पढ़ने के लिए दी थी, “The Dance of Anger”। किताब ने मेरे दिमाग पर गहरा असर किया था और मैंने एक मूल बात कुछ इस प्रकार ग्रहण की, “गुस्सा आना समस्या नहीं, उसकी वजह को समझें, गुस्से को कैसे व्यक्त (act out) करते हैं, यह समस्या हो सकती है!” खैर बात यहां मेरे गुस्से की नहीं, एक सामूहिक गुस्से के एहसास की है। मुझे ही नहीं ‘हमें’ गुस्सा आता है और हम इस गुस्से को कैसे व्यक्त करेंगे? How will we act out our anger? मैं आपके सामने कुछ उदाहरण रखती हूं कि हमें गुस्सा क्यों आता है और हम क्या करते हैं!

कलाओं पर ये कैसा पहरा…? 17

कलाओं पर ये कैसा पहरा…?

उत्तमा दीक्षित ♦ स्टूडेंट लाइफ में जब मैं न्यूड फिगर बनाती थी, तब अपने ही घर में मुझे लगता था कि सभी अच्छा फील नहीं कर रहे। हर सीखने वाले स्टूडेंट के साथ ऐसा ही होता होगा। न्यूड स्टडी करने के लिए किताबों का ही सहारा लेना पड़ता है चाहें वो मार्केट से ली जाएं या लाइब्रेरी से। स्टूडेंट को यह किताबें छिपाकर रखनी पड़ती हैं। डर ऐसा होता है कि कोई क्राइम कर रहा हो। मॉडल न्यूड हो या कपड़ों में, आर्टिस्ट के लिए महज एक आब्जेक्ट है। उसी तरह जैसे सामने कोई चीज़ रखी हो और उसका उसे चित्रांकन करना हो। जयशंकर प्रसाद की कामायनी पर पेंटिंग करने के दौरान जब मैंने श्रद्धा और मनु को कैनवास पर उतारा तो मुझे लगा कि कपड़ों के बिना दोनों पात्रों को ज़्यादा बेहतर अभिव्यक्त किया जा सकता है। ग्वालियर में इस सीरीज़ की पेंटिंग्स की एक्जीबिशन पर मैंने खूब हंगामा झेला। स्त्री होकर भी एक स्त्री को मैंने इस रूप में क्यों बनाया, यह सवाल मुझसे पूछा गया। मैं परेशान और दुखी थी।

उत्तमा की कामायनी : मनु और श्रद्धा के कुछ चित्र-प्रसंग 69

उत्तमा की कामायनी : मनु और श्रद्धा के कुछ चित्र-प्रसंग

उत्तमा दीक्षित ♦ प्रलय के दौरान मनु और श्रद्धा का प्रेम मुझे प्रेरक लगा। कल्पना की उस समय की। मैं जैसे खो सी गयी। मैंने तत्काल पेपर पर स्केच बनाना शुरू किया और देखते ही देखते मनु का चित्र उतर आया। बेशक, अन्य कल्पनाओं की तरह यह कल्पना भी मुश्किल नहीं थी। पहले चित्र का स्केच मनमुताबिक आना शुरू हुआ तो उत्साह बढ़ा। हालांकि विषय की संवेदना और भाव-भंगिमा को चित्र में उतारने में बाद में खासी मेहनत करनी पड़ी। प्रलय के कारण भावशून्य हुए मनु के रूप में मुझे मन दिखाना था और श्रद्धा के रूप में दिल। रहस्य, स्वप्न, आशाएं, कर्म, काम, वासना, आनंद, लज्जा, ईर्ष्या और चिंता के भावों का चित्रण करना सचमुच चुनौतीपूर्ण है।